बौद्धिक विकास

किसी विषय को समझने के लिए उस विषय को सरलता से छात्र-छात्राओं को समझाना ताकि वह गहराई से उस विषय में स्वयं की रूचि के साथ अध्ययन कर सकें ताकि बौद्धिक विकास होने के साथ-साथ उनका भावनात्मक एवं सामाजिक विकास भी हो सके।