राष्ट्रीय सेवा योजना

छात्रों को व्यवसायिक दृष्टिकोण से सफल बनाने के अतिरिक्त उनको एक अच्छा नागरिक बनाना भी महाविद्यालय की नैतिक जिम्मेदारी है इसलिए इस जिम्मेदारी का वाहन करते हुए छात्रों को राष्ट्रीय सेवा योजना के अंतर्गत समाज सेवा से संबंधित कार्य करने के लिए भी प्रेरित किया जाता है जिसमें प्रमुख रुप से प्रकृति का संरक्षण वृक्षारोपण जल का संरक्षण गांव गांव में जाकर लोगों को शिक्षा का महत्व समझाना मतदाता जागरूकता अभियान चलाना अपने आसपास गांव समाज को साफ सफाई के प्रति जागरुक करना महिलाओं में उनकी व्यक्तिगत समस्याओं के प्रति जागरूकता पैदा करना लोगों को धूम्रपान इत्यादि से होने वाले नुकसान के प्रति सचेत करना सामाजिक कार्य संचालित किए जाते हैं।